बाल दिवस पर लघु निबंध । Short Essay on Children’s Day

भारत देश में प्रत्येक वर्ष 14 नवंबर के दिन बाल दिवस को महत्व देते हुए इसे बहुत ही खुशी और उत्साह के साथ पूरे देशवाशियों द्वारा मनाया जाता है।

इस बाल दिवस को विद्यालयों और कॉलेजों में सभी शिक्षक और छात्र बड़ी धूम धाम और सम्मान के साथ मनाते हैं। क्योंकि यह दिन बच्चों को समर्पित है तो बच्चों से संबंधित गतिविधियों को रखते हैं।

स्कूल के चारों तरफ की इमारतों को कई रंगों के पेंट, रंगीन गुब्बारे व कई सुंदर सजावट की सामग्री से सजाते हैं। 14 नवंबर को पूरा राष्ट्र मिलकर बाल दिवस को, जवाहरलाल नेहरु की जयंती के तौर पर महत्व देता है।

बाल दिवस के कार्यक्रम

नेहरू, का  बच्चों के लिए प्रेम सब जानते थे। नेहरूजी बच्चों से बहुत प्यार करते थे। देश के लिए चाचा नेहरू के महान कार्यों को याद करने के लिए बच्चे हिंदी और अंग्रेजी भाषा में गाना गाते हैं, कविता कहते हैं, फिर नृत्य आदि गतिविधियों में भाग लेते हैं।

नेहरू के इस महान अवसर को पूरा देश मिलकर मनाता है। प्रार्थना होने सब बाद अधिकारी सब नेताजी की समाधि पर अच्छे खुशबू वाले पुष्पों वाले एक बड़ी माला रखी जाती है और भजन का भी इंतज़ाम किया जाता है।

बच्चे जो एक राष्ट्र का भविष्य व गौरव दोनो होते हैं ऐसे अवसर को मनाने अथवा देश के लिए कई कार्यक्रमों में योगदान दिए हैं औऱ इन्ही योगदान व त्याग को स्मरण करने के लिए सभी स्कूलों में कई गतिविधियाँ करते हैं। राष्ट्रीय गीत, देशभक्ति गीत, भाषण और छोटे-मोटे नाटक आदी सांस्कृतिक कार्यक्रम भी रखते जाते हैं।

बाल दिवस मनाने की वजह

बच्चों के दिवस को किसी उत्सव की भांति मनाने का मुख्य कारण चाचा नेहरु को श्रद्धांजलि देना और देश भर के बच्चों की परिस्थितियों के बारे में सोचना था।

बच्चे नेहरूजी को बहुत सम्मान व प्रेम करते थे इसी कारण उन्हें चाचा नेहरु के नाम से बुलाया जाता था और इसलिए आज भी बच्चे उनसे बहुत प्रेम करते हैं। चाचा नेहरु एक बहुत ही महान व्यक्ति और नेता होने के बाद अलावा  बच्चों के संपर्क में रहते थे।

कई शिक्षा संस्थानों में इस दिन बच्चे और शिक्षक मिल कर पिकनिक का आयोजन भी जाते हैं। रेडियो पर बाल दिवस से जुड़े कई प्रोग्राम बच्चों को सम्मान देने के लिए प्रस्तुत किये जाते हैं क्योंकि आज के बच्चे ही कल का भविष्य हैं।वे एक राजनीतिक नेता थे जो बच्चों के साथ बहुत समय बिताते थे और बच्चों के भी प्यारे थे।

खुशी और उत्साह का दिवस

बाल दिवस पर बच्चे ढेर सारी खुशियाँ मनाते हैं। यह दिन हमको बच्चों के प्रति हमारे उन ज़िम्मेदारियों की याद दिलाता है जो हमने बच्चों के एक बेहतर स्वास्थ्य, शिक्षा व स्वच्छ जीवन के लिए लिया था।

किसी भी देश के बच्चे मजबूत राष्ट्र को बनाने में मुख्य भूमिका निभाते हैं।

उसके बाद सब विद्यार्थी मिलकर अच्छे से प्रार्थना के भजन का जाप करते हैं। कई लोग ऐसे मौके को उनके महान त्यागों, मदद, अंतर्राष्ट्रीय राजनीति में प्राप्त लाभ व देश के लिए किये गए कई शांति के प्रयासों को स्मरण करके मनाते हैं।

निष्कर्ष

इसे पूरे हर्ष व उल्लास के संग मनाने के लिए अपने स्कूलों व कॉलेजों में छात्र सब कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों को रखते हैं जिसपे प्रदर्शन करते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!