बाल दिवस पर निबंध l Essay on Children’s Day in Hindi

हमारे देश के पहले प्रधान मंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु जी का जन्म दिन 14 नवंबर को हुआ था l बाल दिवस नेहरु जी के जन्म दिन को मनाया जाता है l नेहरु जी को बच्चो से बहुत स्नेह करते थे, उन्हें ऐसा लगता था बच्चे हमारे देश के उज्जवल भविष्य है, तो उन्होंने अपने जन्म दिन को बाल दिवस के रूप में मनाने का निश्चय किया l

पहली बार बाल दिवस 14 नवंबर 1956 को मनाया गया था l तब से हर साल यह दिन मनाया जाने लगा, ताकि जिससे देश के बच्चो पर ध्यान केंद्रित किया जा सके l

बाल दिवस का इतिहास :

वैसे देखा जाए तो बाल दिवस भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है l नेहरु जी को बच्चो से बहुत स्नेह था, उन्हें लगता था ये बच्चे हमारे आने वाले कल का भविष्य उज्व्वल करेंगे l बच्चे भी नेहरु जी से बहुत स्नेह करते थे और उन्हें प्यार से चाचा नेहरु कहते थे l इसी वजह से चाचा नेहरु के जन्म दिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है l

बाल दिवस कैसे मनाया जाता है ?

बाल दिवस अक्सर करके स्कूल और कॉलेजों में मनाया जाता है l और कई संस्था की तरफ से गरीब बच्चो को नये कपड़े, खाना और उनके आवश्यकता की चीजे दी जाती है l स्कूलों में नैतिक, शारीरिक और मानसिक जैसे हर चीज वो जिससे बच्चो के स्वास्थ से संबंधित कई सारी प्रतियोगिताए रखी जाती है l

बड़े – बड़े अधिकारी आकर बच्चो को उनको भविष्य कैसे उज्जवल होगा l उस पर भाषण देते है, इसके साथ ही बच्चो उनके अधिकारी तथा अपेक्षाओ के प्रति भी जागरूक किया जाता है l

बाल दिवस बच्चो के लिए महत्वपूर्ण दिन होता है l इस दिन स्कूल में प्रोग्राम रखे जाते है, सभी विद्यार्थी नए – नए कपडे पहनकर स्कूल जाते है और बहुत खुश होते है l स्कूल में कोई चाचा नेहरू बनता है तो कोई बाल दिवस पर भाषण देता है l सभी बच्चे नृत्य, गाना, नाटक आदि करते है l नाटको द्वारा सभी को यह दर्शाते है की शिक्षा बच्चो के लिए कितना महत्व है l

बाल दिवस मनाना क्यों जरुरी है ?

बच्चे हमारे देश के भविष्य है इसलिए हमे सभी बच्चो की शिक्षा की तरफ ध्यान देना चाहिए l बाल दिवस के दिन केंद्र और राज्य सरकारे बच्चो के भविष्य के लिए कई कार्यक्रम करती है l इस कार्यक्रम में बच्चो को उनकी अहमियत और उनके शिक्षा के महत्वता के बारे में बताया जाता है l और इस कार्यक्रम में सभी बच्चो को उन्हें नए कपड़े, किताबे, भोजन और छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है l

स्कूलों में भी बाल दिवस मनाया जाता है, उस दिन बच्चो के भविष्य में आने वाले कल के बारे बता कर प्रोत्साहित किया जाता है l इससे बच्चो में उत्साह बढ़ता है और हर बच्चा जागरूक होता है l ये केवल तब ही मुमकिन है, जब सभी लोग बच्चो के प्रति अपनी जिम्मेदारी को गंभीरता से ले l बच्चो के उज्जवल भविष्य के लिए बाल दिवस मनाना जरुरी है l

निष्कर्ष

बच्चे हमारे देश के आने वाले कल का भविष्य है, इसलिए इस बात ध्यान देना चाहिए की उन्हें अच्छी शिक्षा और अच्छी परवरिश मिले l

यही कारण है की बाल दिवस मनाया जाता है, ताकि बच्चो की महत्वता को समझा सके और उनके अधिकारों के प्रति वो अपने कर्तव्य निभा सके l

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!