विदेशी आकर्षण पर निबन्ध l Videshi Akarshan Par Nibandh

विदेशी आकर्षण का मतलब देश का नागरिक जागरूक न होना l हमारा भारत देश आज की युवा पर निर्भर है, ये आज की युवा ही आगे जाके भारत देश को विकासशील देश से विकसित देश बना सकते है l पर अब के लोगो को ये लगता है, की भारत में उन्हें अच्छी शिक्षा प्राप्त नही हो रही है इसलिए वे लोग अच्छी शिक्षा के लिए विदेशो में जाना पसंद कर रहे है l

अगर यहाँ शिक्षा प्राप्त भी की हो तो लोग विदेश में जा कर कमाना पंसंद कर रहे है l उन्हें लगता है विदेश जाके वो उच्च तकनिकी से उच्च आमदनी ले सकते है l आज की युवा को विदेशो का रहन-सहन ज्यादा पसंद आ रहा है l

विदेशो में प्राप्त होने वाली हर सुविधा आज की युवा को काफी पसंद आ रहा है उन्हें लगता है भारत देश में हमें जादा मेहनत करनी पड़ेगी वही काम विदेशो में तकनिकी से आरामदायक हो सकती हैl

विदेशो के वातावरण और वह की चमक धमक से आज की युवाये वहा आकर्षण हो रही है, और उन्हें लगता है वह अधिक वेतक मिल सकता है, अपने देश की अपेक्षा l

विदेशी आकर्षण का कारण 

आज की युवा सुविधा के आलावा एक स्वत्रंत भरा जीवन चाहते है l वहा की उच्च तकनिकी और उच्च दृश्य आज की युवा को बहोत लुभा रही है l

आज की युवा का विदेशो की तरफ आकर्षण का सही कारण ये है की अगर वो वह मध्यम वर्ग का काम करके मध्यम वेतन भी मिल रहा है तो वही वेतन भारत में आ के उसका मूल्य दुगना हो जाता हैl

उदाहरण के लिए अमेरिका में कमाया गया $ 1 भारत में Rs 72.54/- होता है ऐसे ही अलग अलग देशो के Denomination अलग अलग मूल्य होती है भारत में अत्यधिक करके उच्च मूल्य ही होता है l

येही कारण है विदेशो की और आकर्षण होने का l यहाँ तक की हमारे भारत में जो विदेशो से पढाई करके या कुछ दिन रह के आये हें उन्हें यहाँ के लोग बहोत इजज्त और मान देते है l इसलिए आ के बच्चे विदेशो में रहना जादा पसंद करते हैl

निष्कर्ष:-

हमें अपने देश में रह के उच्च शिक्षा और उच्च वेतन लेने की कोशिश करनी चाहिएl इससे हम अपने माँ-बाप, अपने परिवार के साथ रह सकते है जो बहुत  ही आनंद भरा जीवन रहेगा l

हमें चाहिए की हमसब मिलकर अपने ही देश के वस्तुओ का बढावा दे ताकि अपने देश में जो निर्माण करने वाली कंपनिया है वो और आगे विकसित हो सके, लोगो को रोजगार भी  मिल सके  l

अगर हम अपनी ही देश के बनी चीजो को खरीदेंगे तो जो गरीब आदमी है उसका उसको अपने उत्पादन का सही मूल्य मिल सके l

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *