प्रौद्योगिकी पर निबंध । Essay on Technology in Hindi

प्रौद्योगिकी आज हर क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। नवीन युग में या इससे पूर्व के वर्ष में रहने वाले मनुष्य अपनी क्षमताओं, उपयुक्त वस्तुओं और विकासशील तकनीकों का उपयोग सबसे उत्तम वस्तु हासिल करने के लिए करते आये हैं।

उसके पश्चात से, प्रौद्योगिकी की वजह से मनुष्य के ज़िन्दगी में एक बहुत बड़ी विकास आयी है। प्रौद्योगिकी एक राष्ट्र के आर्थिक विकास के सूचक की भांति कार्य करता है।

आर्थिक क्षेत्र में विकास

वे देश जो अभी तक विकसित नही ही पाये हैं वह पर प्रौद्योगिकी में बदलाव का काम बहुत ही मुश्किल हो जाता है कारण पहले की अर्थव्यवस्थाओं की हालत जो राष्ट्रीय स्तर पर प्रौद्योगिकी को बेहतर बनाने में कार्य में आती है।

यह समझा जाता है कि सही प्रकार से तकनीकी परिवर्तनों की नामौजूदगी आर्थिक क्षेत्र में वृद्धि में कठिनाई बनकर सामने आती है । इसी वजह से, आर्थिक वृद्धि के लक्ष्य के लिये यह ज़रूरी है कि नई तकनीकों को एकत्रित करें और औद्योगिक से विकासशील देशों मे प्रौद्योगिकी को एक अहम नींव समझा जाए।

प्रौद्योगिकी से नये रास्ते खुले

वस्तुओं के भिन्न प्रकार के प्रयोग और मशीनरी के कई प्रयोग शामिल हैं । प्रौद्योगिकी इस पृथ्वी के माध्यम से ऊर्जा इकट्ठा करने का एक ठोस व  सशक्त उपाय समझा जाता है ।

प्रौद्योगिकी का सबसे प्रथम बार काफी उपयोग उच्च स्तर पर 18वीं शताब्दी में औद्योगिक क्रांति के तौर पर हुआ। यह वही सदी थी जब नई तकनीक वाले मशीन के द्वारा मनुष्य के हाथ ने मशीन की जगह ले ली थी।

उसके बाद उपकरणों ने मशीनों की जगह ले ली। फ़िर कई ऐसे शोध करने वाले, वैज्ञानिकों व इंजीनियर सामने आए जिन्होंने तकनीक को इंसानों के काफी समीप लाने की कोशिश की है। मनुष्य और प्रौद्योगिकी के इस मिश्रण से हमारा जीवन प्रौद्योगिकी पर और भी ज्यादा निर्भर हो गया और सब कुछ आसान हो गया।

राष्ट्रीय स्तर पर महत्वपूर्ण

किसी भी व्यक्ति, एक समाज और एक राष्ट्र के लिए प्रौद्योगिकी किसी वरदान से कम नही क्योंकि यह उनके कुशलताओं को और अधिक बढाती है और उसे प्रकृति की बहूत बड़ी भौतिक कौशल के उपयोग में  महत्वपूर्ण समझा जाता है। प्रौद्योगिकी के राह में जो हम उन्नति देखते आये हैं वह आर्थिक विकास के क्षेत्र में बहुत अहम भूमिका निभाती है।

प्रौद्योगिकी के कारण पूरे विश्व में तरक्की हुई है जिससे देश के सभी लोगों को विकास के मार्ग पर आगे बढ़ते रहने में सहायता की है। इन तकनीकी विकास से सब कुछ सम्भव हो गया है क्योंकि अब लोग कोई भी कहीं भी अपना कार्य कर सकते हैं बिना अपने स्वास्थ्य से समझौता किये।

अधिक मात्रा में उत्पादन

यह सब वर्षों की कड़ी मेहनत है जिसमें काफी समय, रुपये का इस्तेमाल हुआ है और जिसकी वजह से लोगो का जीवन बेहतर हो गया है। लोगों को अब उनका सुनहरा कल नज़र आने लगा है।

असलियत में, प्रौद्योगिकी को देश के आर्थिक स्तर पर विकास को प्रथमिक अहमियत देता है। इसके अलावा कई तकनीकी बदलाव अन्य विकासशील राष्ट्रों की प्रगति के लिए अहम समझा जाता है।

जब तकनीकी ज्ञान में वृधी आती है तो उससे होने वाली उत्पादन में भी वृद्धि होती है इससे यह लाभ होता है कि उत्पादन की बहुत ही कम दाम पर चीजें और सेवाएं बनाती हैं।

निष्कर्ष

प्रौद्योगिकी से तकनीक में काफी परिवर्तन होती है जो नवीन वस्तुओं के निर्माण की नई तकनीकों की व्यवस्था करता है । आज के समय के नवीन तकनीकी ज्ञान में जो वृद्धि होती है उस परिभाषा का इस्तेमाल उन तकनीकों के विकास के तौर में की जाती है जो निर्मित वस्तुओं को कम लागत पर उत्पादित करने का दावा करता है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!